सलामत

373 Views
Feb 18, 2020

चहे मुख्य रहउँ जहँ मैं
चहे तु न राहे
तेरे मेरे प्यार के उमर सलामत रहे
चाहै ज़मीन आसमां
राहे न राहा
तेरे मेरे प्यार की उमर
सलामत राहे
दरर है तुझ मुख खों न दून
मिले जो खुदा से बोल दून
मुख्य करो जहान का क्या करूँ
तू बाटा
तू जो मेरे पास है
मुजको ना कोई प्यार है
मेरी मुअम्मल हो गई
उसकी दुआ
चले मेरे जिस्म में तुमको जान
राहे न राहे
तेरे मेरे प्यार के उमर सलामत रहे
वे तुकड़ोन में जी उठे
तम जो मील को न्याय गय
पंख लग के ओढ़ चल
मन मेरातुजहिं मुख्य हौं
मुजे मीन तू
और है सानीसेन रोबारू
कु छ भ न अब अब दोनो के
Darmiyaan
चहे हम चन्दन चामक
राहे न राहे
तेरे मेरे प्यार की उमर
सलामत राहे
चहे मुख्य रहउँ जहँ मैं
चहे तु न राहे
तेरे मेरे प्यार की उमर सलामत

All Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *