मुनु मार मुकावि

355 Views
Feb 28, 2020

गोयल रब्बा बेचारा मेरा इक अरमान करदे, मेरे दिल में जो रे मेरे मन ना करदे, होर चहिदा नइ कुज, मैथ सब कुच्छ लैला, ओहदा हाथ मेरे हाथ च फरवाही, रब्बा तू मैना ओढा बनिया, बनिया, बनिया ते लीयावी, किस होर बन बन टन पेहलान, तेनु सोहं मनु मार मुकवी — २

1. ओहेनु जिने वाइरी दिलखान दिल राज़ा नै मेरा, दिल करे ओहनू वीखड़ी रावण, ओहू चन्न जेहा कवन कुज समाज न आवे, ये मुख्य चन्न ओहदे वारन कवन, इक सा वाई ज लवन ओहदे नाम नोहल पेहलन, मन्नू दूजा ना साहा तू लाह। रब्बा तू मैनु ओहदा बानावी, जिन्नी वारी इज़ जग ते लयवी, किस होर द बनुआं टन पेहलान, तेनु सोहं माणु मार मुकवी – 2

2. एहना वाई कोइ सोहना कीन हो सकदे, जिन सोहने मनु लगदे न ओह,

कालि राति जेहि लागे दुनिआ ए सारी, वांग तरेयन दे गुड़ दे नेह, दुख देविन ना बस ओहु खुशियां हाय दीवी, ग्रे

बेहरमपुर सैंडी ना राववी, रब्बा तू मैनु ओहदा बनवाई,

जिन्नी वारी है जग ते लयवी,

कीस होर बन बन टन पेहलान, तेनु सोहं मनु मार मुकवी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *