नैनों में बदरा छाए

306 Views
Feb 20, 2020

नैनों में बदरा छाए, बिजली सी चमके हाए ऐसे में बलम मोहे गरवा लगा ले

मदिरा में डूबी अखियाँ, चंचल है दोनों सखियाँ झलती रहेगी तोहे, पलकों की प्यारी पखियाँ शरमा के देंगी तोहे मदिरा के प्याले

प्रेम दिवानी हूँ मैं, सपनों की रानी हूँ मैं पिछले जनम से तेरी प्रेम कहानी हूँ मैं आ इस जनम में भी तू अपना बना ले

All Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *