गल सुनले

314 Views
Feb 28, 2020

मेरी गली एक सुन मुंडा तेरे उतारे मरदा मेरी गली एक सुन मुंडा तेरे उटते मरदा

गैल दिल वली कीन्ह नू फिरे गाल दिल वली कीहन न फिरे

तेरे बिन हुन नय्यो सरदा गल एक सुनले मुंडा तेरे उड़े मरदा मेरि गल एक सुनले मुंडा तेरे उतरे मरदा

रेशमी दुपट्टा तेरा मुद तक तका लक खंडा है हुलारे बलाये बलाय हैये मीठी मीठी बात नी तू कारे कैटवॉक मुंडे लेंडे है नाज़ारे बलाये बलाय रे दुपट्टा तेरा मुद तक ले लक खंडा है हुलारे बलिए हयते मिथ्या टॉकीज गीतों के बोल हैं।

मेरी गल एक सुनले मुंडा तेरे उतेड़ मरदा

हो कंगना गवया नाले संगणा गवाया माट मुंडेया दी मारि बये हारे करदा प्यार तेणू करे इजहार कथो लाऊनी है तू लारे बालीये हो कंगना गावे नाले सांगना गवना मा मवदेया मा मारी बलाय हाए करदा पीनर तेनार करुन्नार कीर्तन करे।

किते बाईजी ना गवाके अल्लाह्रे किते बाईजी ना गावके अल्लाह मुंडा गबरू वी चन्न वरगा गल एक सुनले मुंडा तेरे उड़े मरदा मेरी एक सुन मुंडा तेरे उटते मरदा

जादो बान थान के तू निकले जद्दो बान से के तू निकले मुंडा जान तेरे उड़े हरदा गल एक सुन मुंडा तेरे उतारे मरदा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *