केहंदी हँ कीहंदी ना

134 Views
Feb 19, 2020

क्यूं तेक के मिट्टी दा के दे,
इक वैरी हं ।।
हाए गल्लां करले आके,
इक वारी हैन।

क्यूं तेक के मिट्टी दा के दे,
इक वारी हैं।
हाए गैलन करले अके
इक वैरी हं ।।

मुख्य फ़िर भी तेरे,
हाय हरि आन ।।
छाड़ के वे पीचे सायर,
मुख्य आ रहियान ।।

मुख्य फ़िर भी तेरे,
हाय हरि आन ।।
गलति न हो कुन्की,
तेरी अंखियां ।।

केहंदी हँ कीहंदी ना।
तेरीआयन अखियां ।।

केहँडी हँ कीहंदी ना ।।
Akhiyaan ..
केहँडी हँ कीहंदी ना ।।
तेरीआयन अखियां ।।
केहँडी हँ कीहंदी ना ।।
Akhiyaan ..

डोरून न उलझा,
पस आ तडपा ।।
डेख लिने डे,
झूले क्या साच ।।

वे ऐथे आजा यार,
ना बइठे रिह हमार परस।

तेरे वरगा हो,
तेरा मुखड़ा वी सोहना,
पार करदियँ ताँ अखनियाँ ।।

मुख्य फ़िर भी तेरे,
क्यूं हरि आन ।।
गलति न हो कुन्की,

गलति न हो कुन्की,
तेरी अँखियाँ।

कीन्हि हँ कीन्हि नाहीं ।।
तेरिआं अखियां।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *